• आदमी नामा - कवि - नज़ीर अकबराबादी

  • दुनिया में बादशाह है सो है वो भी आदमी
    और मुफ़्लिस-ओ-गदा है सो है वो भी आदमी
    ज़रदार-ए-बे-नवा है सो है वो भी आदमी
    नेमत जो खा रहा है सो है वो भी आदमी
    टुकड़े चबा रहा है सो है वो भी आदमी |1|

    अब्दाल, क़ुतुब ओ ग़ौस वली-आदमी हुए
    मुंकिर भी आदमी हुए और कुफ़्र के भरे
    क्या क्या करिश्मे कश्फ़-ओ-करामात के लिए
    हत्ता कि अपने ज़ोहद-ओ-रियाज़त के ज़ोर से
    ख़ालिक़ से जा मिला है सो है वो भी आदमी |2|

    फ़िरऔन ने किया था जो दावा ख़ुदाई का
    शद्दाद भी बहिश्त बना कर हुआ ख़ुदा
    नमरूद भी ख़ुदा ही कहाता था बरमला
    ये बात है समझने की आगे कहूं मैं क्या
    यां तक जो हो चुका है सो है वो भी आदमी |3|

    यां आदमी ही नार है और आदमी ही नूर
    यां आदमी ही पास है और आदमी ही दूर
    कुल आदमी का हुस्न ओ क़ुबह में है यां ज़ुहूर
    शैतां भी आदमी है जो करता है मक्र-ओ-ज़ोर
    और हादी रहनुमा है सो है वो भी आदमी |4|

    मस्जिद भी आदमी ने बनाई है यां मियां
    बनते हैं आदमी ही इमाम और ख़ुत्बा-ख़्वां
    पढ़ते हैं आदमी ही क़ुरआन और नमाज़ यां
    और आदमी ही उन की चुराते हैं जूतियां
    जो उन को ताड़ता है सो है वो भी आदमी |5|

    यां आदमी पे जान को वारे है आदमी
    और आदमी पे तेग़ को मारे है आदमी
    पगड़ी भी आदमी की उतारे है आदमी
    चिल्ला के आदमी को पुकारे है आदमी
    और सुन के दौड़ता है सो है वो भी आदमी |6|

    चलता है आदमी ही मुसाफ़िर हो ले के माल
    और आदमी ही मारे है फांसी गले में डाल
    यां आदमी ही सैद है और आदमी ही जाल
    सच्चा भी आदमी ही निकलता है मेरे लाल
    और झूट का भरा है सो है वो भी आदमी |7|

    यां आदमी ही शादी है और आदमी बियाह
    क़ाज़ी वकील आदमी और आदमी गवाह
    ताशे बजाते आदमी चलते हैं ख़्वाह-मख़ाह
    दौड़े हैं आदमी ही तो मशअ'ल जला के राह
    और ब्याहने चढ़ा है सो है वो भी आदमी |8|

    यां आदमी नक़ीब हो बोले है बार बार
    और आदमी ही प्यादे हैं और आदमी सवार
    हुक़्क़ा सुराही जूतियां दौड़ें बग़ल में मार
    कांधे पे रख के पालकी हैं दौड़ते कहार
    और उस में जो पड़ा है सो है वो भी आदमी |9|

    बैठे हैं आदमी ही दुकानें लगा लगा
    और आदमी ही फिरते हैं रख सर पे ख़ूनचा
    कहता है कोई लो कोई कहता है ला रे ला
    किस किस तरह की बेचें हैं चीज़ें बना बना
    और मोल ले रहा है सो है वो आदमी |10|

    तबले मजीरे दाएरे सारंगियां बजा
    गाते हैं आदमी ही हर इक तरह जा-ब-जा
    रंडी भी आदमी ही नचाते हैं गत लगा
    और आदमी ही नाचे हैं और देख फिर मज़ा
    जो नाच देखता है सो है वो भी आदमी |12|

    यां आदमी ही लाल-ओ-जवाहर में बे-बहा
    और आदमी ही ख़ाक से बद-तर है हो गया
    काला भी आदमी है कि उल्टा है जूं तवा
    गोरा भी आदमी है कि टुकड़ा है चांद-सा
    बद-शक्ल बद-नुमा है सो है वो भी आदमी |13|

    इक आदमी हैं जिन के ये कुछ ज़र्क़-बर्क़ हैं
    रूपे के जिन के पांव हैं सोने के फ़र्क़ हैं
    झमके तमाम ग़र्ब से ले ता-ब-शर्क़ हैं
    कम-ख़्वाब ताश शाल दो-शालों में ग़र्क़ हैं
    और चीथड़ों लगा है सो है वो भी आदमी |14|

    हैरां हूं यारो देखो तो क्या ये स्वांग है
    और आदमी ही चोर है और आपी थांग है
    है छीना झपटी और बांग तांग है
    देखा तो आदमी ही यहां मिस्ल-ए-रांग है
    फ़ौलाद से गढ़ा है सो है वो भी आदमी |15|

    मरने में आदमी ही कफ़न करते हैं तयार
    नहला-धुला उठाते हैं कांधे पे कर सवार
    कलमा भी पढ़ते जाते हैं रोते हैं ज़ार-ज़ार
    सब आदमी ही करते हैं मुर्दे के कारोबार
    और वो जो मर गया है सो है वो भी आदमी |16|

    अशराफ़ और कमीने से ले शाह-ता-वज़ीर
    ये आदमी ही करते हैं सब कार-ए-दिल-पज़ीर
    यां आदमी मुरीद है और आदमी ही पीर
    अच्छा भी आदमी ही कहाता है ऐ 'नज़ीर'
    और सब में जो बुरा है सो है वो भी आदमी |17|

  •  







  • Popular